ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
पॉलीमर नोट जारी करने का आग्रह 
March 11, 2020 • सजग ब्यूरो • व्यापार
  • कोरोना वायरस के सन्दर्भ में कैट ने प्रधानमंत्री को पत्र भेजकर देश में पॉलीमर नोट जारी करने का आग्रह किया
  • कैट ने देश में डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू करने का भी दिया सुझाव

वर्तमान कोरोना वायरस और विभिन्न महामारियों के संदर्भ में जो समय-समय पर हो सकती हैं के सन्दर्भ में कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आज प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र भेजकर भारत में पेपर करेंसी के स्थान  पर पॉलिमर नोट शुरू करने और देश भर में डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए एक आक्रामक देशव्यापी अभियान शुरू करने का आग्रह किया ! कैट ने इससे पूर्व सरकार को कहा था की अनेक अज्ञात लोगों की श्रंखला में विभिन्न लोगों के संपर्क में आने के कारण से पेपर करेंसी विभिन्न प्रकार के वायरस और संक्रमणों का सबसे खतरनाक वाहक है और लोगों के स्वास्थ्य के लिए एक खतरा भी है ! इसी पृष्ठभूमि के सम्बन्ध में कैट ने उपरोक्त सुझाव प्रधानमंत्री को आज भेजे हैं !

प्रधान मंत्री को भेजे पत्र में कैट ने कहा कि दुनिया के बड़ी संख्या में विभिन्न देशों ने आधिकारिक मुद्रा के रूप में पॉलीमर नोटों को अपनाया है और भारत सरकार के लिए यह भी सही समय है कि वह कागजी मुद्रा के स्थान पर पॉलीमर नोटों को अपनाए। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से बहुत सुरक्षित हैं और पॉलीमर  नोटों के माध्यम से वायरस या संक्रमण के जाने का जोखिम बेहद कम है तथा इसकी जालसाजी भी लगभग नगण्य है और इसमें कागज की मुद्रा की तुलना में अधिक सुरक्षा विशेषताएं हैं। पॉलिमर नोट अत्यधिक तापमान का सामना करने में भी  सक्षम हैं। इसके अलावा, अगर यह खराब हो जाए तो इसका पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है तथा पर्यावरण को कम नुकसान होता है। पोलीमर बैंक नोट कागज के नोटों की तुलना में लंबे समय तक चलते हैं, जिससे पर्यावरण सुरक्षित रहता है तथा इसकी उत्पादन और प्रतिस्थापन की लागत भी  कम है !

 

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने कोरोना वायरस से देश और नागरिकों की सुरक्षा के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना करते हुए कहा की सरकार के प्रयतनस्वरूप इसके वैश्विक प्रभाव की तुलना में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या भारत में बहुत कम है।उन्होंने कहा की  कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा डिजिटल भुगतान को अपनाने और भारत को कम नकदी का राष्ट्र  बनाने के लिए पहले दिए गए आवाहन के अनुसरण में यह समय है जब इस तरह की पहल को एक बड़े पैमाने पर राष्ट्रीय अभियान द्वारा तेजी से पूरे देश में चलाना चाहिए जिसके जरिये अधिक से अधिक लोग डिजिटल भुगतान को अपनमायें !कैट  ने इस तरह के किसी भी अभियान  के लिए सरकार को अपना समर्थन दोहराया है।

पॉलिमर बैंकनोट्स को एक सिंथेटिक पॉलीमर से बनाया जाता है जिसको बाइक्सियाली ओरिएंटेड पॉलीप्रोपाइलीन (बीओपीपी) कहते हैं और ऐसे नोटों में कई सुरक्षा विशेषताएं शामिल होती हैं, जो पेपर नोट में उपलब्ध नहीं हैं! पॉलीमर नोट में मेटामेरिक स्याही का उपयोग होता है । पॉलिमर नोट कागज़ी नोटों की तुलना में काफी लंबे समय तक रहते है जिससे पर्यावरणीय प्रभाव सुरक्षित रहता है ! आधुनिक पॉलीमर  बैंकनोट्स को सबसे पहले रिजर्व बैंक ऑफ़ ऑस्ट्रेलिया  (आरबीए) और राष्ट्रमंडल वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान संगठन (सीएसआईआरओ) और द यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न द्वारा विकसित किया गया था। उन्हें पहली बार 1988 के दौरान ऑस्ट्रेलिया में मुद्रा के रूप में जारी किया गया था। 1996 में ऑस्ट्रेलिया पूरी तरह से पॉलीमर नोटों में करेंसी के रूप में उपयोग किया जाने लगा है ! इसके साथ ही अन्य देश जो पूरी तरह से पॉलीमर नोट को करेंसी के रूप में उपयोग कर रहे हैं उनमें ब्रुनेई, कनाडा, मालदीव, मॉरीशस, निकारागुआ, न्यूजीलैंड, पापुआ न्यू गिनी, रोमानिया, त्रिनिदाद, टोबैगो और वियतनाम , यूनाइटेड किंगडम, नाइजीरिया, केप शामिल हैं। , वर्दे, मिर्च, गाम्बिया, निकारागुआ, मैक्सिको, बोत्सवाना, उत्तर मैसेडोनिया, रूसी संघ, आर्मेनिया, सोलोमन द्वीप, मिस्र, पूर्वी कैरेबियाई राज्यों का संगठन (ओइसीएस), मोरक्को,  अल्बानिया और कंबोडिया आदि भी शामिल हैं !

श्री भरतिया और श्री खंडेलवाल दोनों ने कहा कि यदि ऐसे छोटे देश मुद्रा के रूप में पॉलीमर नोटों को अपना सकते हैं, तो भारत कागज मुद्रा के स्थान पर पॉलीमर नोटों को अपनाने के लिए अधिक सक्षम स्थिति में है। उन्होंने कहा की  सरकार निश्चित रूप से कैट   के दोनों सुझावों पर विचार करेगी।