ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
ऑड इवन का दूसरा दिन काफ़ी सफल रहा और एयर क़्वालिटी इंडेक्स भी कल से बेहतर हुआ है:- मनीष सिसोदिया
November 6, 2019 • सजग ब्यूरो
वकीलों और पुलिस की झड़प को समय रहते रोक लेना चाहिए था, हम चाहते हैं कि किसी भी तरह की हिंसा न हो और इस समस्या का जल्द से जल्द समाधान हो : मनीष सिसोदिया

आज दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रदूषण के हालत पर ताज़ा जानकारी देते हुए कहा कि, आज दूसरा दिन भी ऑड इवन का बहुत सफल रहा है। आज के AQI में कल से भी ज्यादा इम्प्रूवमेंट हुआ है। तीन बजे के लेटेस्ट डेटा के अनुसार पी एम 2.5 , 58 रहा जो काफी अच्छी क़्वालिटी है साथ ही पी एम 10 भी  139 रहा जो कल से काफी बेहतर स्थिति है। उन्होंने कहा कि इन आंकड़ों से ये तो पता चल रहा है कि दिल्ली पर जो धुंए का संकट था वो लगभग खत्म हो चुका है फिर भी हमारे पर्यावरण विभाग के वैज्ञानिक सभी तरह के हालातों पर  नज़र बनाए हुए है।

इसी क्रम में उन्होंने कहा की, " मुझे लगता है कि कल के माननीय सुप्रीम कोर्ट के आर्डर के बाद हरियाणा और पंजाब में पराली जलनाए की घटनाओं में कमी आई होगी, और हम उम्मीद करते है कि अब नया धुंआ नही आएगा।"

ऑड इवन के बारे में जानकारी देते हुए हुए मनीष सिसोदिया ने कहा कि पूरी दिल्ली बहुत अच्छे से इस नियम का पालन कर रही है।

कल हमने सख्ती नही करते हुए और ज्यादातर लोगों के चालान नही काटते हुए समझाया था कि ऑड इवन का पालन करे उसके बाद कुल 192 चालान कटे थे, आज हमने चालान की संख्या बढ़ाई है जो दोपहर तक 384 चालान कटे है।

साथ ही उपमुख्यमंत्री ने बताया कि लोग ट्राफिक को लेकर बहुत खुश है। सड़को पर जो गाड़ियों की कमी आयी है उसकी वजह से लोगो को एक से दूसरी जगह पहुचने में समय आधा रह गया है। इस कारण भी वाहनों से होने वाले प्रदूषण में कमी आयी है।

दिल्ली में वकीलों और पुलिस के बीच चल रही तनातनी पर पत्रकारों का जवाब देते हुए सिसोदिया ने कहा कि ये स्थिति अप्रत्याशित है, एक तरफ वकील जो जनता को न्याय दिलाने का काम करते है और दूसरी तरफ पुलिस है जो जनता की सुरक्षा करती है दोनों आम आदमी के इर्दगिर्द खड़े हुए वो लोग है जिन पर आम आदमी भरोसा करता है और जब इन दोनों के बीच कोई समस्या होती है तो इस पर समय रहते उपाय कर लेने चाहिए और हम चाहते है कि इसका तुरंत समाधान निकले और किसी भी तरह की हिंसा ना हो