ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
मानसून और चर्म रोग
July 23, 2020 • विनय कुमार मिश्र • स्वास्थ्य
डॉ रूप कुमार बनर्जी (होम्योपैथी चिकित्सक) 

बारिश और उमस भरे मौसम में फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन से बहुत परेशानी होती है । इस समय पसीने की वजह से और कभी कभी भीगनें की वजह से त्वचा संबंधित कई वीमारियां हो जाती है! आइए कुछ सामान्य तरीके अपनाकर कर इससे बचें और त्वचा की देखभाल करें! बारिश का मौसम अपने साथ अक्सर उमस लेकर भी आता है। ऐसे मौसम में त्वचा पर फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का काफी खतरा बना रहता है। इस भयानक उमस के दौरान निकलने वाला पसीना त्वचा पर होने वाले इंफेक्शन को बढ़ा देता है। इस मौसम में घमोरियों के साथ ही दो उंगलियों के बीच में सूजन, अंडर आर्म और जांघों में जलन और खुजली होना, दाद और बालों का झड़ना जैसी कई समस्याएं हो जाती हैं। बारिश और उमस भरे मौसम में कुछ सामान्य तरीकों को अपना कर आप अपनी त्वचा की देखभाल करने के साथ ही इन सभी परेशानियों से बच सकते हैं। गर्मी और उमस भरे मौसम में सुबह शाम पानी में दो बूंद नींबू का रस डालकर स्नान करें । नहाने के बाद टेलकॉम पाउडर या चिकित्सक द्वारा निर्देशित पाउडर लगाएं। हल्के रंग के और सूती के ढीले कपड़े पहनें। कपड़े साफ-सुथरे हों। धूप में निकलते समय सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें।
घमोरिया:-लाल रंग के दाने में उत्पन्न होने वाली यह समस्या पसीने से होती है, जिससे रोम छिद्र बंद हो जाते हैं। घमोरिया खत्म होने में कुछ दिन लगते हैं। खुजलाने से इनका इंफेक्शन बढ़ता है, इसलिए कोशिश करें हल्के कॉटन या लिनन के कपड़े पहनें खुजली आने पर लोशन का इस्तेमाल करें।
नाखून ने इंफेक्शन:-इस मौसम में कई बार नाखूनों में इंफेक्शन हो जाता है। ऐसे में हमारे नाखून सुस्त और फीके दिखाई देते हैं। बड़े नाखून रखने से बचें, क्योंकि नाखून में गंदगी बैठती है, जिससे फंगल इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसी समस्या होने पर तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें।
एथलीट फुट :-पैरों में फिट न आने वाले जूते पहनने से कई बार फंगल इंफेक्शन हो जाता है। बारिश के मौसम में प्लास्टिक या कैनवस जूते पहनने से बचें। इनकी जगह रबड़ का चप्पल पहनना ट्राई करें, जिससे पैरों को हवा लग सके। पैरों को साफ और सूखा रखें और धुले हुए कॉटन के मोजें पहनें ।
दाद दिनाय खुजली :-ये एक बहुत ही परेशान करने वाली बीमारी है । इसने चमड़े पर हल्का गुलाबी गोल रिंग की तरह बन जाता है और थोड़ा भी पसीना आने पर बेहद खुजलाता है । खुजलाते हुए बहुत आनंद आता है परन्तु बाद में बहुत जलन होता है । बाज़ार से खरीदकर कोई क्रीम ना लगाए वल्कि अपने चिकित्सक के परामर्श से दवा लें ! 
क्या करें --खूब पानी पीएं,  सुबह शाम नहाएं, ढीला ढाला सूती के कपड़े पहने, हारी सब्जी, मौसमी फल खाएं, पंखें के पास या हवादार जगहों पर रहें, अपने शरीर की अंदर एवम् बाहर पूरी साफ सफाई रखें, अपने चिकित्सक के बराबर संपर्क में रहें
क्या ना करें :-अपनी मर्ज़ी से कोई भी क्रीम खरीदकर ना लगाएं, मांसाहार कम करें, गरिष्ठ भोजन ना करें, अल्कोहल ना लें, भीगे हुए अंडरवियर या बनियान ना पहने रहें, बहुत ज़्यादा चाय या काफी ना लें!