ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
जबलपुर हवाई अड्डे का आधुनिकीकरण होगा
September 30, 2020 • सजग ब्यूरो • राज्य
  • जबलपुर हवाई अड्डे का आधुनिकीकरण
  • भीड़भाड़ वाले घंटों में 500 यात्रियों से निपटने की क्षमता 
  • नई टर्मिनल बिल्डिंग और रनवे का विस्‍तार
  • स्‍थायी शहरी निकासी प्रणाली के साथ पर्यावरण की दृष्टि से अनुकूल

एक बेहतर पर्यटन विकल्प के रूप में बढ़ते शहर की आवश्‍यकताओं को ध्‍यान में रखते हुए, जबलपुर हवाई अड्डे पर यात्रियों की संख्‍या में वृद्धि देखी जा रही है। क्षेत्र के हवाई यात्रियों को बेहतर सेवाएं प्रदान करने के लिए हवाई अड्डे को अब आधुनिक बनाया जा रहा है। हवाई अड्डे पर किए गए आधुनिकीकरण कार्य में नई टर्मिनल बिल्डिंग, एटीसी टॉवर और तकनीकी ब्लॉक, फायर स्टेशन श्रेणी VII, अन्य भवन और रनवे और संबंधित कार्यों का विस्तार शामिल है। राज्य सरकार ने 2015 में विकास कार्य के लिए कुल 775 एकड़ जमीन में से 468.43 एकड़ जमीन भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण (एएआई) को सौंप दी थी।

विश्व स्तरीय यात्री सुविधाओं से लैस नए टर्मिनल भवन में भीड़भाड़ वाले समय के दौरान 500 यात्रियों से निपटने की क्षमता होगी। 115180 वर्गफुट क्षेत्र में फैले, टर्मिनल भवन में तीन एयरोब्रिज, सामान स्क्रीनिंग की आधुनिक प्रणाली, प्राकृतिक दृश्‍य के बीच आधुनिक फूड कोर्ट और 250 से अधिक कारों और बसों के लिए सुनियोजित कार पार्किंग होगी। प्रस्तावित टर्मिनल भवन में यात्रियों को जीवंत गोंड चित्रों, स्थानीय हस्तशिल्प, भित्ति चित्रों और मध्य प्रदेश के लोकप्रिय पर्यटन स्थलों की झलक देखने को मिलेगी।

नया भवन पर्यावरण अनुकूल चिरस्‍थायी सामग्री के साथ बनाया जाएगा और यह सौर संयंत्र और ऊर्जा कुशल उपकरणों से सुसज्जित होगा। एक कुशल ठोस कचरा प्रबंधन प्रणाली, बागवानी प्रयोजनों के लिए उपचारित जल का पुन: उपयोग और सतत शहरी जल निकासी प्रणाली के साथ वर्षा जल संचयन प्रणाली हवाई अड्डे की आधुनिकीकरण परियोजना की कुछ अन्य प्रमुख विशेषताएं हैं।

नए टर्मिनल भवन के निर्माण के अलावा, 412 करोड़ रुपये की परियोजना लागत के साथ आधुनिकीकरण कार्य में एयरबस 320 प्रकार के विमानों के संचालन के लिए हवाई अड्डे को उपयुक्त बनाने के लिए रनवे का विस्तार, सभी आधुनिक सुविधाओं के साथ 32 मीटर ऊंचे नये एटीसी टॉवर और तकनीकी ब्लॉक (जी + 2) का निर्माण, फायर स्टेशन (श्रेणी- VII) और अन्य सहायक इमारतें जैसे उपयोगिता ब्लॉक, गेट हाउस आदि भी शामिल है।

परियोजना के अगले साल यानी दिसंबर, 2021 तक पूरा होने की उम्‍मीद है और नए टर्मिनल भवन के मार्च, 2022 तक चालू होने की संभावना है। कान्हा राष्ट्रीय उद्यान, बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान, नजदीकी भेड़ाघाट में संगमरमर की चट्टानें और झरने पर्यटकों के आकर्षण का केन्‍द्र है। हवाई अड्डा संपूर्ण मध्य प्रदेश, विशेषकर महाकौशल क्षेत्र की आवश्‍यकताओं को पूरा करेगा।  नया आधुनिक जबलपुर हवाई अड्डा जबलपुर शहर के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा और इस क्षेत्र में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देगा।