ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
एसबीआई ने ‘फाइनेंशियल इनक्लूजन और माइक्रो मार्केट‘ के लिए लान्च किया एक विशेष प्रकोष्ठ
June 2, 2020 • सजग ब्यूरो • व्यापार
  • एफआई, कृषि और संबद्ध व्यवसायों में ऋण गतिविधियों पर विशेष ध्यान देने के लिए अलग से सेल
  • देशभर में बैंक की लगभग 8000 ग्रामीण और अर्ध शहरी शाखाओं के माध्यम से सूक्ष्म ऋण देने की पेशकश।
  • विशेष रूप से कृषि और छोटे उधारकर्ताओं की निवेश क्रेडिट संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए  गई विशेष एफआई और एमएम वर्टिकल की स्थापना।
  • डीएमडी रैंक के अधिकारी होंगे नए विशेष प्रकोष्ठ के प्रमुख।

पुनर्गठन संबंधी एक बड़े प्रयास के तहत देश के सबसे बड़े ऋणदाता स्टेट बैंक आफ इंडिया ने बैंक के भीतर एक अलग एफआई एंड एमएम वर्टिकल का गठन किया है, जिसमें वित्तीय समावेशन और माइक्रो मार्केट्स पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित किया गया है। इससे ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्रों में नागरिकों के लिए ग्राहक अनुभव में सुधार होगा। इस नए लॉन्च किए गए वर्टिकल के तहत, बैंक मुख्य रूप से कृषि और संबद्ध गतिविधियों और सूक्ष्म/लघु उद्यमों को ऋण प्रदान करेगा।
ग्रामीण और अर्ध शहरी क्षेत्रों में लगभग 8000 शाखाओं की पहचान की गई है ताकि वे छोटे व्यवसायों और किसानों के लिए माइक्रो क्रेडिट सहित माइक्रो सेगमेंट में विशेष सेवाएं प्रदान कर सकें। ग्रामीण, अर्ध शहरी, शहरी और मेट्रो क्षेत्रों में बैंक के 63,000 से अधिक कस्टमर टच पाइंट्स के विशाल नेटवर्क के माध्यम से सेवा की गुणवत्ता और बैंकिंग सेवाओं की उपलब्धता में सुधार करने पर जोर रहेगा। नया वर्टिकल माइक्रो-फाइनेंस सेक्टर को बढ़ावा देगा।
नए वर्टिकल की लान्चिंग के बारे में जानकारी देते हुए एसबीआई के चेयरमैन श्री रजनीश कुमार ने कहा, ‘‘आज का दिन हमारे उस संकल्प के लिहाज से एक महत्वपूर्ण दिन है, जिसमें हम कहते हैं कि एसबीआई सभी सेगमेंट्स में देश के नागरिकों के साथ खड़ा है। एफआई और एमएम वर्टिकल बनाने के पीछे मुख्य तौर पर यह विचार रहा है कि विभिन्न व्यावसायिक लाइनों पर पूरा और त्वरित गति से ध्यान केंद्रित किया जाए और शाखा में ग्राहकों के साथ संवाद की गुणवत्ता में सुधार किया जाए। यह एसबीआई द्वारा देश के अंदरूनी इलाकों में रहने वाले लोगों की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अपनी वित्तीय समावेशन यात्रा के हिस्से के रूप में एक महत्वपूर्ण पहल है। नया लान्च एफआई एंड एमएम वर्टिकल छोटे व्यवसाय और एग्री एंड एलाइड सेगमेंट्स की सेवा का अवसर प्रदान करेगा ताकि वे अपने कारोबार को सुचारू रूप से चला सकें, विशेषकर वर्तमान समय की अनिश्चितता में। एफआई एंड एमएम वर्टिकल के निर्माण की परिकल्पना, इसका निर्माण और इसका क्रियान्वयन पूरी तरह से इनहाउस तौर पर किया गया है।‘‘ 
राष्ट्रीय स्तर पर, एफआई और एमएम वर्टिकल का नेतृत्व डीएमडी श्री संजीव नौटियाल करेंगे।
सर्कल स्तर पर विशेष ध्यान और सुचारू रूप से कार्य करना सुनिश्चित करने के लिए, एफआईएंडएमएम वर्टिकल सर्कल के सीजीएम के तहत जीएम एफआईएम की अध्यक्षता में है और एलएचओ से संचालित होता है। जीएम एफआईएमएम नेटवर्क को क्रेडिट डिलीवरी प्रणाली को मजबूत करने और त्वरित प्रतिबंधों और छोटे ऋणों के वितरण के लिए बदलाव के समय में सुधार करने के उद्देश्य से 3 डीजीएम, 8 एफआईएमएम आरएम और 22 डीएसएच द्वारा संबल किया गया है। प्राथमिक जोर जिला स्तरीय उपस्थिति को मजबूत करने पर होगा जो एफआईएंडएमएम नेटवर्क में शाखाओं को निरंतर बिक्री और वसूली सहायता प्रदान करेगा। डीएसएच ग्राहक सेवा बिंदुओं (सीएसपी) की पहुंच को मजबूत करने और ग्राहकों को प्रदान की जानेवाली सेवाओं की गुणवत्ता और उपलब्धता में सुधार सुनिश्चित करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा ।
नई दिल्ली सर्किल में सीजीएम दिल्ली सर्किल, श्री विजय रंजन के नेतृत्व में उत्तराखंड, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और दिल्ली एनसीआर राज्यों को कवर करने वाली 1630 शाखाओं में 612 शाखाओं को एफआईएंडएमएमवर्टिकल के लिए चिह्नित किया गया है।
कोविड- 19 महामारी के बीच एसबीआई वर्तमान एसएमई उधारकर्ताओं को राहत उपाय प्रदान करने में भी सबसे आगे रहा है, जैसे कि सीसीईसीएल (कॉमन कोविड- 19 इमर्जेंसी क्रेडिट लाइन) के माध्यम से फंड आधारित वर्किंग कैपिटल लिमिट्स का 10 प्रतिशत, वर्किंग कैपिटल फाइनेंस को आसान बनाना और टर्म लोन और वर्किंग कैपिटल पर मोरेटोरियम की सुविधा प्रदान करना।