ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
एनएचपीसी तथा पीएफसी की सीएसआर गतिविधियों के अंतर्गत विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण
September 17, 2020 • सजग ब्यूरो • व्यापार

केन्द्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा एवं राज्य मंत्री कौशल विकास और उद्यमिता, आर.के. सिंह ने 16.09.2020 को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भोजपुर जिले के शाहपुर व बिहियाँ प्रखण्ड में एनएचपीसी व पीएफ़सी की सीएसआर गतिविधियों के अंतर्गत क्रियान्वित विभिन्न  परियोजनाओं का लोकार्पण किया।

इस अवसर पर ए.के. सिंह, अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक, एनएचपीसी, रतीश कुमार, निदेशक (परियोजनाएं), एनएचपीसी, आर. मुराहरी, कार्यपालक निदेशक, पीएफसी एवं स्थानीय जनप्रतिनिधिगण, प्रशासनिक व अन्य अधिकारीगण भी उपस्थित थे। 

कार्यक्रम के दौरान शाहपुर प्रखण्ड में कुल 33 परियोजनाओं एवं बिहियां प्रखण्ड के 39 परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया। इन परियोजनाओं के अंतर्गत दोनों प्रखंडों में 55 स्थानों पर पीसीसी सड़क का निर्माण, 03 जगहों पर सामुदायिक भवन और चबूतरा, 07 स्थानों पर सोलर/एलईडी/हाई मास्ट लाईट, 02 जगहों पर ओपेन जिम का निर्माण, 02 स्थानों पर ड्रैनेज सिस्टम का निर्माण, 1 स्थान पर छठ घाट व 02 स्थानों पर पुस्तकालय एवं सामुदयिक भवन का निर्माण शामिल हैं। इन सभी परियोजनाओं की कुल लागत लगभग 9 करोड़ रूपए है।

इस अवसर पर अपने संबोधन में माननीय मंत्री महोदय ने एनएचपीसी और पीएफसी द्वारा किए गए कल्याणकारी कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि एनएचपीसी देश की सबसे बड़ी हाइड्रो कंपनी है और पीएफसी विद्युत क्षेत्र में भारत की सबसे बड़ी वित्तीय कंपनी है। उन्होंने एनएचपीसी द्वारा बिहार के छ: ज़िलों में किए गए ग्रामीण सड़कों तथा छ: ज़िलों में किए गए ग्रामीण विद्युतीकरण कार्यों का भी उल्लेख किया। उन्होंने आगे बताया कि पीएफसी द्वारा देश की विभिन्न बिजली कंपनियों को हज़ारों करोड़ रूपए का ऋण उपलब्ध कराते हुए देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि दोनो कंपनियां पूरे देश में काम करती हैं और अपनी क्षमता, कार्य की गुणवत्ता और समयबद्धता के कारण किसी भी विदेशी कंपनी का मुकाबला करने में सक्षम हैं। विद्युत क्षेत्र में देश में प्राप्त उपलब्धियों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में हमनें देश की विद्युत क्षमता में सवा लाख मेगावाट की वृद्धि की है और लेह-लद्दाख जैसे दुर्गम क्षेत्र को ग्रिड से जोड़ते हुए एक राष्ट्र-एक ग्रिड-एक फ्रिक्वेन्सी का सपना पूरा किया है। आज देश के हर गांव और हर घर में बिजली पहुंच चुकी है। इतने कम समय में इतने बड़े पैमाने पर विद्युतीकरण के लिए दुनिया भर में भारत की प्रशंसा हुई है।

कार्यक्रम में दौरान संबोधित करते हुए ए.के. सिंह, अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक, एनएचपीसी ने इस तरह के जन-उपयोगी परियोजनाओं को माननीय मंत्री महोदय की दूरदर्शी सोच का परिणाम बताया और कहा कि इन दो प्रखंडों मे करीब नौ करोड़ कि लागत से ये सभी परियोजनाएँ पूरी हुई हैं। इस अवसर श्री सिंह नें स्थानीय जनता और प्रशासन का विशेष रूप से आभार व्यक्त किया और कहा कि उनके सहयोग के बिना इस काम को पूरा कर पाना मुश्किल होता। उन्होंने इस बात का भी विश्वास दिलाया कि एनएचपीसी आगे भी इस तरह के समाज-उपयोगी कार्य जारी रखेगी।

इससे पूर्व कार्यक्रम के आरंभ में रतीश कुमार, निदेशक (परियोजनाएं), एनचीपीसी द्वारा अपने संबोधन के माध्यम से सभी अतिथियों का स्वागत किया गया। कार्यक्रम के अंत में पीएफसी के कार्यपालक निदेशक (सीएसआर) आर. मुराहरी ने धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तुत किया।