ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
दिल्ली के नए औद्योगिक क्षेत्रों में लगेंगे सिर्फ हाईटेक और सर्विस उद्योग
November 3, 2020 • सजग ब्यूरो • व्यापार
  • औद्योगिक क्षेत्र को लेकर दिल्ली सरकार के ऐतिहासिक प्रस्ताव पर केंद्र सरकार की मुहर, अब दिल्ली के नए औद्योगिक क्षेत्रों में लगेंगे सिर्फ हाईटेक और सर्विस उद्योग
  • दिल्ली से सर्विस और हाईटेक इंडस्ट्री को दूसरे शहरों में जाने की जरूरत नहीं, अब उन्हें दिल्ली में ही सस्ती दर पर ज्यादा जगह मिलेगी
  • औद्योगिक क्षेत्रों में अभी तक निर्माण उद्योग लगाने की अनुमति थी
  • अभी तक सर्विस उद्योग मास्टर प्लान में आँफिस की श्रेणी में आते थे और सिर्फ कमर्शियल एरिया में खुल सकते थे, जो काफी महंगे होते थे, इसलिए ये दूसरे शहरों में जा रहे थे
  • दिल्ली के पुराने औद्योगिक क्षेत्रों में उद्यमियों को अपने मौजूदा उद्योग को बंद करके हाईटेक या सर्विस इंडस्ट्री लगाने के लिए मौका दिया जाएगा
  • दिल्ली में प्रदूषण फैलाने वाली इंडस्ट्री भी खत्म होंगी और इंडस्ट्रीयल एरिया साफ-सुथरे व हरे-भरे होंगे
  • हमें उम्मीद है कि इंडस्ट्रीयल एरिया में किए जा रहे बदलाव दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाने की दिशा में बहुत ही अहम कदम साबित होंगे- अरविंद केजरीवाल

दिल्ली में सर्विस और हाईटेक इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को उद्योग लगाने के लिए अब उत्तर प्रदेश या हरियाणा के शहरों में जाने की जरूरत नहीं है, अब उन्हें दिल्ली में ही काफी सस्ती दर पर ज्यादा जगह मिलने का रास्ता साफ हो गया है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस ऐतिहासिक निर्णय की जानकारी देते हुए कहा कि दिल्ली के औद्योगिक क्षेत्रों में बदलाव को लेकर हमने तीन साल पहले केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा था, केंद्र सरकार ने उस पर मुहर लगा दी है और अब आने वाले समय में औद्योगिक क्षेत्रों की सूरत बदल जाएगी। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्रों में अभी तक निर्माण उद्योग लगाने की अनुमति थी, लेकिन अब नए औद्योगिक क्षेत्रों में केवल हाईटेक और सर्विस उद्योग लगाने की अनुमति होगी। अभी तक सर्विस उद्योग मास्टर प्लान में आँफिस की श्रेणी में आते थे और केवल कमर्शियल एरिया में खुल सकते थे, जो काफी महंगे होते थे। इसलिए यह उद्योग नोएडा, फरीदाबाद या गुरुग्राम चले जा रहे थे। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पुराने औद्योगिक क्षेत्रों में उद्यमियों को अपने मौजूदा उद्योग को बंद करके हाईटेक या सर्विस इंडस्ट्री लगाने के लिए मौका दिया जाएगा। हमें उम्मीद है कि यह निर्णय दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाने की दिशा में बहुत ही अहम कदम साबित होगा।
 
हमारे भेजे गए प्रस्ताव पर केंद्र सरकार ने मुहर लगाते हुए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है- अरविंद केजरीवाल
 
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज कहा कि केंद्र सरकार ने दिल्ली के सभी औद्योगिक क्षेत्रों के लिए एक बहुत ही ऐतिहासिक निर्णय लिया है। दिल्ली सरकार ने कुछ साल पहले यह प्रस्ताव बनाकर केंद्र सरकार के पास भेजा था। केंद्र सरकार ने अभी एक-दो दिन पहले इसको लेकर नोटिफिकेशन जारी किया है। इसके बाद दिल्ली के जितने भी औद्योगिक क्षेत्र हैं, उन सब की पूरी तरह से सूरत बदल जाएगी। अभी तक दिल्ली के अंदर औद्योगिक क्षेत्रों में मोटे-मोटे तौर पर निर्माण गतिविधियों की अनुमति होती थी। दिल्ली में बहुत सारे निर्माण उद्योग लगे हुए हैं। इसमें सरिया, स्टील, प्लास्टिक बनाने संबंधी किस्म-किस्म के निर्माण उद्योग हैं, जो बहुत ज्यादा प्रदूषण फैलाते हैं। आप किसी भी औद्योगिक क्षेत्र में चले जाएं, वहां पर आपको बुरे हालत देखने को मिलते हैं। वहीं, अब यह निर्णय लिया गया है कि दिल्ली के अंदर अब कोई भी नया औद्योगिक क्षेत्र बनेगा, तो वहां पर केवल हाईटेक और सर्विस उद्योग लगाने को अनुमति दी जाएगी। इसके अलावा कोई अन्य निर्माण कार्य करने वाले उद्योगों को लगाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। अब नए औद्योगिक क्षेत्रों में सिर्फ हाईटेक और सर्विस उद्योगों को अनुमति दी जाएगी। वहीं, जितने भी पुराने औद्योगिक क्षेत्र हैं, वहां पर जो लोग चाहेंगे, उनको मौका दिया जाएगा कि वे अपनी मौजूदा औद्योगिक ईकाई को बंद करके नई औद्योगिक गतिविधि अर्थात सर्विस या हाईटेक उद्योग लगा सकते हैं। हमें उम्मीद है कि धीरे-धीरे आने वाले समय के अंदर जितने भी निर्माण उद्योग हैं, वो सभी बंद हो जाएंगे और धीरे-धीरे सर्विस और हाईटेक उद्योग लगने शुरू हो जाएंगे। 
 
अब नए औद्योगिक क्षेत्रों में इस तरह के उद्योग लगाने की अनुमति होगी
 
दिल्ली सरकार ने नए औद्योगिक क्षेत्रों में लगने वाली इंडस्ट्री को सूचीबद्ध किया है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने बताया कि नए औद्योगिक क्षेत्रों में सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री लग सकती है, इसके बहुत से कार्यालय यहां खुल सकते हैं। इसी तरह, कंप्यूटर हाॅर्डवेयर एंड साॅफ्टवेयर इंडस्ट्री, इंडस्ट्री इंटीग्रेटिंग एंड मैनुपुलेटिंग द इंटरफेस आॅफ कंप्युटर एंड टेलीकाॅम फैसिलिटीज, आईटी सर्विस इंडस्ट्री, इंटरनेट एंड ई-मेल सर्विस प्रोवाइडर, आईटीईएस इंडस्ट्री, कस्टमर इंटरेक्शन सर्विसेज, काॅल सेंटर, ई-मेल हेल्पडेस्क, बैक आॅफिस प्रोसेसिंग, फाइनाॅस एंड अकाउंटिंग, इंश्योरेंस क्लेम, एचआर सर्विसेज, बिजनेस प्राॅसेज आउट सोर्सिंग, नाॅलेज इंडस्ट्री, साॅफ्टवेयर एक्सटेंशन, मीडिया इंडस्ट्री, टीवी एंड वीडियो प्रोग्राम प्रोडक्शन, फोटो कंपोजिंग एंड डेस्कटाॅप पब्लिकेशन, पब्लिशिंग सर्विसेज, आॅडियो विजुअल सर्विसेज और सभी प्रकार की आर एंड डी के कार्यालय खुल सकते हैं। साथ ही, चार्टर्ड अकाउंटेंट, वकील, ऐड एजेंसी, मार्केट रिसर्च एंड पब्लिक ओपनियन सर्विसेज, इक्विटी सर्विसेज, प्लेसमेंट सर्विसेज, वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट से जुड़े लोग अपने कार्यालय खोल सकते हैं।
 
दिल्ली की मुख्य अर्थव्यवस्था सर्विस पर आधारित है, निर्माण पर आधारित नहीं- अरविंद केजरीवाल
 
सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली को अगर हम समझने की कोशिश करें, तो दिल्ली की मुख्य अर्थव्यवस्था सर्विस पर आधारित है, निर्माण पर आधारित नहीं है। अभी तक दिल्ली की मुख्य अर्थव्यवस्था सर्विस पर आधारित उद्योगों से चलती है। अभी तक जितने भी सर्विस आधारित उद्योग हैं, ये सभी मास्टर प्लान में ऑफिस की श्रेणी में आते थे और यह उद्योग केवल कमर्शियल क्षेत्र में ही खुल सकते थे। कमर्शियल एरिया में जमीन के रेट काफी ज्यादा रहते थे। इसलिए वहां पर उतने ज्यादा ऑफिस खुल नहीं पा रहे थे और यह सारे कार्यालय गुरुग्राम, नोएडा या फरीदाबाद चले जाते थे। अब इनको दूसरे शहरों में जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इन लोगों को सस्ते दामों पर औद्योगिक क्षेत्रों के अंदर काफी जगह मिलेगी। मैं समझता हूं कि अब दिल्ली के औद्योगिक क्षेत्रों के अंदर प्रदूषण फैलाने वाले उद्योग खत्म होंगे और दिल्ली के हमारे औद्योगिक क्षेत्र साफ-सुथरे और हरे-भरे औद्योगिक क्षेत्र बनेंगे।
 
सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम लोगों ने तीन-चार साल पहले यह प्रस्ताव बनाकर केंद्र सरकार के पास भेजा था। मैं पिछले तीन-चार महीने से केंद्रीय मंत्री श्री हरदीप पुरी जी से इसको लेकर संपर्क में था। मैं व्यक्तिगत तौर पर केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी जी का आज शुक्रिया अदा करना चाहता हूं, जिन्होंने दिल्ली के लिए यह ऐतिहासिक कदम उठाया है। दिल्ली में आने वाले समय में प्रदूषण को खत्म करने के लिए और दिल्ली को साफ- सुथरा और सुंदर बनाने के लिए यह बहुत ही निर्णायक एवं महत्वपूर्ण कदम साबित होगा।