ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
दिल्ली बाॅर्डर एक सप्ताह के लिए सील, आगे का फैसला जनता के सुझाव के आधार पर होगा - अरविंद केजरीवाल
June 2, 2020 • सजग ब्यूरो • दिल्ली
  • जनता अपने सुझाव वाट्सएप नंबर 8800007722 या ईमेल- delhicm.suggestions@gmail.com पर भेज सकते हैं या 1031 पर काॅल कर रिकाॅर्ड करा सकते हैं
  • आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी, सरकारी कार्यालय के कर्मचारी अपना आईकार्ड दिखा कर आ-जा सकेंगे, अन्य लोग भी पास से आ-जा सकेंगे
  • दिल्ली सबकी है, बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं होने के कारण देश भर से लोग इलाज कराने आते हैं, दिल्ली किसी का इलाज करने से मना नहीं कर सकती, इसलिए हमें इसपर भी लोगों के सुझाव व मार्ग दर्शन की जरूरत
  • दिल्ली के अस्पतालों में 6600 कोविड बेड में से अभी करीब 2300 बेड भरे हैं, 5 जून तक कोविड बेड की संख्या 9500 हो जाएगी - अरविंद केजरीवाल
 
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली बाॅर्डर को एक सप्ताह के लिए सील कर दिया है। बाँर्डर पर आगे का फैसला दिल्ली के लोगों से मिले सुझाव के आधार पर किया जाएगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सभी की है। दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाएं सबसे बेहतर होने के कारण देश भर से लोग इलाज कराने आते हैं। दिल्ली किसी का इलाज करने से मना नहीं कर सकती है। बॉर्डर खोलने पर कोविड बेड शीघ्र भर सकते हैं। इस कारण बाॅर्डर खोलने पर मुझे जनता का मार्ग दर्शन और सुझाव चाहिए। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार को शुक्रवार (5 जून) को शाम 5 बजे तक आपके सुझावों का इंतजार रहेगा। आप अपने सुझाव वाट्सएप नंबर 8800007722 या ईमेल- delhicm.suggestions@gmail.com पर भेज  सकते हैं। इसके अलावा आप हेल्पलाइन नंबर 1031 पर काॅल करके भी आपने सुझाव रिकाॅर्ड करा सकते हैं। फिलहाल, एक सप्ताह के लिए बाॅर्डर सील कर रहे हैं। इस दौरान आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। सरकारी कार्यालय के कर्मचारी अपना आईकार्ड दिखा कर आ-जा सकेंगे। अन्य लोग भी पास से आ-जा सकेंगे। हम आप सभी से मिले सुझावों पर विशेषज्ञों से चर्चा करने के बाद अगले सप्ताह ठोस फैसला लेंगे। 
 
केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार दिल्ली में भी छूट लागू, रात 9 से सुबह 5 बजे तक लोगों के बाहर निकलने पर प्रतिबंध- अरविंद केजरीवाल
 
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज से लाॅकडाउन का अगला चरण शुरू हो रहा है। केंद्र सरकार ने अपनी नई गाइडलाइन भेजी है। केंद्र सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक, जो भी ढील देने के निर्णय लिए हैं, उस पर दिल्ली सरकार ने कुछ फैसले लिए हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी तक जितनी चीजें खोली जा चुकी है, वह खुली रहेंगी। इसके अलावा, बार्बर और सैलून की दुकानें खोलने का निर्णय लिया गया है। अभी स्पाॅ नहीं खोले जाएंगे। आटो, ई-रिक्शा समेत सभी ग्रामीण सेवा में कुछ दिक्कत आ रही थीं। मसलन, आटो में एक बार में एक ही सवारी बैठने की अनुमति थी। यदि एक परिवार में पति, पत्नी और एक बच्चा घर से निकलते हैं, तो तीनों को अलग- अलग आटो में बैठना पड़ रहा था। इन दिक्कतों की वजह से लोगों के कई सुझाव आए थे। वहीं, अब केंद्र सरकार ने भी नई गाइडलाइन में इस पर कोई प्रतिबंध नहीं रखा है। इसलिए दिल्ली सरकार भी इन प्रतिबंधों को हटा रही है। केंद्र सरकार ने निर्णय लिया है कि रात को 9 बजे से सुबह 5 बजे तक आवश्य सेवाओं के अलावा कोई अन्य बाहर नहीं निकलेगा। दिल्ली सरकार भी इस फैसले को लागू करने जा रही है। अभी तक चार पहिया वाहन में चालक के अलावा दो लोग के बैठने और स्कूटर पर पीछे कोई सवारी नहीं बैठने के निर्देश थे। केंद्र सरकार ने इन शर्तों को हटा दिया है। इसलिए दिल्ली सरकार भी केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार इन शर्तों को हटा रही है।
 
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मार्केट में अभी तक हम लोगों ने आँड-ईवन लागू किया था। जिसमें एक दिन आँड और दूसरे दिन ईवन नंबर की दुकानें खुल रही थीं। अब केंद्र सरकार की गाइडलाइन में इस तरह की कोई शर्त नहीं है। इसलिए अब मार्केट में सभी दुकानें खुलेंगी। पिछली बार केंद्र सरकार ने कहा था कि इंडस्ट्रीयल एरिया में स्टैगर्ड टाइमिंग लागू किए जाएंगे। उसी के मुताबिक दिल्ली सरकार ने भी स्टैगर्ड टाइमिंग लागू किया था। लेकिन नई गाइड लाइन में उन शर्तों को हटा दिया है, इसलिए अब दिल्ली में सभी इंडस्ट्रीज खुल सकेंगी।
 
दिल्ली में पिछले पांच सालों में स्वास्थ्य सेवाओं में अभूतपूर्व विकास हुआ - अरविंद केजरीवाल
 
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के बाॅर्डर खोलने को लेकर लोगों से मार्ग दर्शन और सुझाव मांगा है। उन्होंने कहा कि मैं दिल्ली के लोगों का मार्ग दर्शन चाहिए। आज तक मुझे आप लोगों का बहुत स्नेह मिला, बहुत प्यार मिला और बहुत विश्वास मिला है। उसी के भरोसे हम लोग आज दिल्ली में जितने काम कर पा रहे हैं, वह सभी काम आप लोगों के विश्वास और स्नेह के कारण ही संभव हो पा रहे हैं। मेरे सामने समय-समय पर कई बार कठिन चुनौतियां आईं। कई बार उनके सामाधान नहीं हो पाते थे। ऐसे समय पर मैं कई बार आप लोगों के सामने आया और आप लोगों के मार्ग दर्शन और सुझाव लिए। समय-समय आप लोगों ने जो मार्ग दर्शन किया, उसको हम लोगों ने लागू भी किया। कुछ दिन पहले आप लोगों से सुझाव मांगे थे कि दिल्ली में लाॅकडाउन में ढील देनी चाहिए या नहीं देनी चाहिए। इस पर भरपूर सुझाव आए थे। दिल्ली के लोगों ने 5 लाख से अधिक सुझाव दिए थे। आज एक महत्वपूर्ण विषय पर आप लोगों का मार्ग दर्शन चाहिए कि क्या दिल्ली के बाॅर्डर को खोला जाए? इसका एक महत्वपूर्ण पहलू है। दिल्ली के अंदर कोरोना के केस काफी बढ़ रहे हैं। यह चिंता की बात तो है, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है। यह मैं इसलिए कह पाया कि क्योंकि दिल्ली के अंदर पिछले 5 सालों में आपकी सरकार ने दिल्ली के अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवाओं में खूब निवेश किया है। खूब नए अस्पताल खोले हैं। खूब सारे बेड बनाए, आईसीयू खोले और मोहल्ला क्लीनिक खोले हैं। लोगों के लिए सभी इलाज मुफ्त कर दिया है। पिछले पांच सालों में दिल्ली के अंदर स्वास्थ्य सेवाओं में अभूतपूर्व विकास हुआ है। आज उसी के चलते जब कोरोना महामारी की वजह से देश और दुनिया के कई हिस्सों में उनकी स्वास्थ्य सेवाएं ध्वस्त हो गईं। वहीं, आज दिल्ली में कोरोना के केस बढ़ने के बाजवूद आपका मुख्यमंत्री आपको विश्वास दिलाता है कि अगर आपके घर में किसी को कोरोना हो गया, तो आप चिंता मत करना, आपके लिए बेड उपलब्ध हैं। हमने आपके लिए बेड का इंतजाम कर लिया है।
 
दिल्ली में सबसे बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं और मुफ्त इलाज की वजह से देश भर से लोग इलाज कराने आते हैं- अरविंद केजरीवाल
 
मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले सप्ताह जब हमने आप लोगों से बात की थी, तब मैने यह कहा था कि दिल्ली में 2100 मरीज हैं, लेकिन 6600 बेड के इंतजाम हैं और 5 जून तक 9500 बेड का इंतजाम और हो जाएगा। दिल्ली में आज की तारीख में अभी करीब 2300 मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं। किस अस्पताल में बेड, वेंटिलेटर और आॅक्सीजन उपलब्ध है, इसके बारे में आपको अब एप की मदद से पता चल जाएगा। एप को हम कल लांच कर रहे हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश भर के लोग दिल्ली में इलाज कराने के लिए आते हैं। दिल्ली में लोग इलाज कराने के लिए दो कारणों से आते हैं। पहला, आज दिल्ली की स्वास्थ्य सेवाएं पूरे देश में किसी भी राज्य या किसी भी शहर से सबसे ज्यादा अच्छी है। पूरे देश में सबसे अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं दिल्ली में मिलती है। इसलिए देश भर से लोग इलाज कराने के लिए आते हैं। दूसरा, दिल्ली के अंदर सरकारी अस्पतालों में सबकुछ मुफ्त है। यदि आपके इलाज में 20 लाख रुपये भी खर्च होता है, तो वह मुफ्त है। इसलिए देश भर से लोग यहां इलाज कराने के लिए आते हैं।
 
दिल्ली किसी का इलाज करने से मना नहीं कर सकती, फिर भी हमें आप सभी का मार्ग दर्शन और सुझाव चाहिए- अरविंद केजरीवाल
 
मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जैसे ही हम बाॅर्डर खोलेंगे, देश भर से लोग दिल्ली में इलाज कराने के लिए आएंगे। हमने 9500 बेड का इंतजाम किया है और दिल्ली में आज की तारीख में केवल 2300 मरीज भर्ती हैं। लेकिन यदि बाॅर्डर खोल दिए और देश भर से लोग इलाज कराने के लिए दिल्ली आ गए, तो पूरे बेड दो दिन के अंदर ही भर जाएंगे। मुख्यमंत्री ने दिल्ली निवासियों से पूछा कि ऐसे में हमें क्या करना चाहिए? क्या बाॅर्डर खोलने चाहिए या नहीं खोलने चाहिए? कुछ लोगों का कहना है कि बाॅर्डर खोल देने चाहिए, लेकिन दिल्ली के अस्पतालों को केवल दिल्ली में रहने वाले लोगों के इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाएं। उन्होंने कहा कि दिल्ली तो दिलवालों की है। दिल्ली सबकी है और देश की राजधानी है। दिल्ली आजतक सभी का इलाज करती आई है। फिर दिल्ली किसी का इलाज करने से मना कैसे कर सकती है? कुछ लोगों का सुझाव है कि जब तक कोरोना है, कम से कम तब तक के लिए दिल्ली के अस्पतालों में केवल दिल्ली में रहने वाले लोगों का ही इलाज होना चाहिए। तो इसमें क्या होना चाहिए? इस पर आप सभी से मार्ग दर्शन चाहिए। हमें क्या करना चाहिए? आप हमें इस बारे में सुझाव भेजें। हमें आपके सुझावों का शुक्रवार को शाम 5 बजे तक इंतजार रहेगा। आप मुझे अपने सुझाव वाट्सएप पर भेज सकते हैं। वाट्सएप नंबर 8800007722 है या ईमेल- delhicm.suggestions@gmail.com पर भी अपना सुझाव भेज सकते हैं। यदि आपके पास वाट्सएप या ईमेल नहीं है, तो आप हेल्पलाइन नंबर 1031 पर काॅल करके आपना सुझाव रिकाॅर्ड करा सकते हैं। फिलहाल एक सप्ताह के लिए बाॅर्डर को सील कर रहे हैं। इस दौरान आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। सरकारी कार्यालय के कर्मचारी आईकार्ड दिखा कर आ-जा सकेंगे। लोग पास लेकर भी आ-जा सकेंगे। इसके बाद आप लोगों से जो सुझाव आएंगे और जो मार्ग दर्शन करेंगे, उन सुझावों पर हम विशेषज्ञों से भी बात करेंगे। उसके आधार पर अगले सप्ताह हम इस बारे में एक ठोस फैसला ले पाएंगे।