ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
दिल्ली अध्यापक परिषद् जिला पूर्व द्वारा कर्तव्य बोध दिवस समारोह संपन्न।
February 20, 2020 • सजग ब्यूरो • साहित्य
विगत दिनों  पूर्वी जिले के  मदर्स ग्लोबल पब्लिक स्कूल  के सभागार में भव्य  कर्तव्य बोध दिवस का  आयोजन  दिल्ली अध्यापक परिषद के  पूर्वी जिले के अध्यक्ष   नंद किशोर शर्मा की अध्यक्षता में  संपन्न हुआ।
प्रीत विहार स्थित  मदर्स ग्लोबल स्कूल के सभागार में  एन के शर्मा ने  अपने अध्यक्षीय संबोधन में  वर्तमान  समय,  इसमें शिक्षक की स्थिति,  शैक्षिक परिदृश्य,  दिल्ली सरकार  की नीतियों  और  शिक्षक की जिम्मेदारियों की ओर  गंभीरतापूर्वक  संकेत किए।उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में  किस प्रकार शिक्षक अपने कर्तव्यों के द्वारा  उनका निर्वहन करते हुए, एक श्रेष्ठ समाज,  श्रेष्ठ राज्य और श्रेष्ठ देश-का दुनिया का निर्माण कर सकता है।
समारोह के मुख्य अतिथि  के रूप में  इस अवसर पर  जोन 3 के उप शिक्षा निदेशक  डॉ पी.के. त्यागी  उपस्थित थे। उन्होंने अपने वक्तव्य में, अपने जीवन दर्शन,  कार्यशैली तथा अपने पूर्व दिनों की याद करते हुए,  किस प्रकार से कर्तव्यों और दायित्वों का निर्वहन करके अपना स्थान समाज में बनाया इस ओर संकेत किया।उन्होंने कहा कि आज भी वे शिक्षा जगत में सेवा कर रहे हैं , इस संदर्भ में  शिक्षकों को मूल्यवान और प्रेरणादायी  उद्बोधन दिया। समारोह में मदर्स ग्लोबल स्कूल के  चेयरमैन  श्री अशोक कुमार जेठी  भी उपस्थित थे। उन्होंने  इस समारोह की और कार्यक्रम के अध्यक्ष की भूरि भूरि प्रशंसा करते हुए  कहा कि यह समारोह  शिक्षकों में और समाज में एक नई चेतना  और नया  उत्साह लेकर आएगा।  ऐसे आयोजन  शिक्षकों के सम्मान और समाज में उनके योगदान को सार्थक बनाने वाले सिद्ध होंगे।
  दिल्ली अध्यापक परिषद के अध्यक्ष वेद प्रकाश ने  मुख्य वक्ता के रूप में अपना उद्बोधन दिया।उन्होंने कई उदाहरणों के द्वारा स्थापित किया कि  शिक्षक  समाज को और राष्ट्र को राह दिखाता है। वह अपने जीवन से, कार्यशैली से, अपने विचारों से, अपने लेखन से और अपनी दृष्टि से उसे संस्कारित करता है ।
 
अन्य वक्ताओं ने कहा कि  वर्तमान परिस्थिति के अनुरूप अध्यापक का पुनीत कर्तव्य है कि  शिक्षा का उद्देश्य  छात्रों का सर्वांगीण विकास करना है ताकि वे राष्ट्र के संस्कारवान नागरिक बन सकें I समाज में शिक्षक की जीवन शैली भी भौतिकवाद से प्रभावित होकर अपनी सीमित सोच के कारण दायित्व बोध के स्थान पर अपनी नौकरी की सुरक्षा तथा वेतन से सरोकार रखने वाले बन चुके हैं ऐसे में इस आयोजन की महत्ता और बढ़ जाती है।
कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ दीप प्रज्वलित कर किया गया।.
कार्यक्रम  का  संचालन श्री सुरेंद्र सिंह आर्य ने  किया। कार्यक्रम  की शुरुआत संगठन का परिचय देते हुए श्री अनिल चौधरी जी प्रचार मंत्री प्रदेश ने की। उन्होंने बताया कि यह संगठन 1971 से राष्ट्रहित, छात्रहित , तथा शिक्षकहित  में कार्य कर रहा है I वक्ता के रूप में श्री अवधेश पाराशर जी अति. महामंत्री ने कहा कर्तव्य बोध दिवस का उद्देश्य सदा ही राष्ट्र सर्वोपरि रहा है।अपने उद्बोधन  मीणा जी ने सभी शिक्षकों को उनके कर्तव्यों का संकलप कराया I 
कार्यक्रम का समापन दिल्ली अध्यापक परिषद् जिला पूर्व अध्यक्ष श्री नन्द किशोर शर्मा जी  के धन्यवाद प्रस्ताव के साथ हुआ I 
इस अवसर पर ऊषा मानव महिला मंत्री रा.नि., मनोज सिंह रा.नि. ,कई प्रधानचार्य, एवं विभिन्न विद्यालयों के प्रबुद्ध शिक्षक उपस्थित रहे। कार्यक्रम के सफल आयोजन में पूर्वी जिला कार्यकारणी जगदीश कुमार सोलंकी, ब्रम्ह्मानन्द दीक्षित,सतीश चंद, ,संजय कुमार तिवारी,शिव कुमार शर्मा,आर. एस. दुबे,सिद्धार्थ अग्रवाल,श्रीराम गुप्ता,अजय कुमार शर्मा,दयानन्द सिंह, संदीप मेहरोत्रा, हरिंदर भाटी, अनुज कुमार, प्रवीण कुमार, अंकुर कुमार आदि का  योगदान सराहनीय रहा।