ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
भारतीय स्टेट बैंक ने मनाया 65वां बैंक दिवस
July 2, 2020 • सजग ब्यूरो • व्यापार

1 जुलाई  2020 को भारतीय स्टेट बैंक का 65वां बैंक दिवस नई दिल्ली मंडल द्वारा उत्‍साहपूर्वक मनाया गया, जिसमें समाज सेवा, पर्यावरण, स्‍वास्‍थ्‍य और डिजिटल बैंकिंग पर जोर दिया गया। नई दिल्ली मंडल के मुख्य महाप्रबंधक विजय रंजन ने बैंक दिवस पर आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लिया और अनेक कार्यक्रमों का शुभारंभ भी किया। दिन का आरंभ सभी कर्मचारियों द्वारा एसबीआई को सभी के लिए पहली पसंद का बैंक बनाने की प्रतिज्ञा के साथ हुई। सामाजिक सेवाओं के तहत लाजपत नगर स्थित म्‍युनिसिपल  प्राइमरी स्कूल में और विभिन्न शाखाओं तथा बैंक के आवासीय परिसरों में वृक्षारोपण किया गया। श्री रंजन ने स्टाफ सदस्यों के साथ संसद मार्ग स्थित स्थानीय प्रधान कार्यालय के परिसर में भी पौधे लगाए। बैंक ने दिल्‍ली के बादली में अल्‍प सुविधा वाले परिवारों को राशन किट वितरित कीं और बैंक के स्टाफ सदस्यों से एकत्र कपड़े भी एक एनजीओ के माध्यम से जरूरतमंद लोगों को वितरित किए गए। इसके अलावा, कोविड-19 के खिलाफ लड़ने के लिए, सफदरजंग अस्पताल, नई दिल्ली को दस स्वचालित  हैंड सैनिटाइजर मशीनें प्रदान की गईं।  

इस दिन स्टाफ सदस्यों के लिए कोविड-19 पर विशेष ध्यान देते हुए डॉक्टर की वार्ता रखी गई। बाद में शाम को, मंडल के विभिन्न स्थानों से स्टाफ सदस्यों से भागीदारी के साथ ऑनलाइन मंच पर बैंक दिवस के उपलक्ष्‍य में सांस्‍कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए।

इस दौरान मुख्‍य महाप्रबंधक श्री रंजन ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से 5 नई शाखाओं का उद्घाटन  भी किया। अपने संबोधन में श्री रंजन ने भारतीय स्टेट बैंक के इतिहास के साथ देश की अर्थव्यवस्था में बैंक के महत्वपूर्ण योगदान पर प्रकाश डाला और अपने प्रेरक संदेश के माध्यम से कर्मचारियों को ग्राहकों के बैंकिंग अनुभव में सुधार करने के लिए एसबीआई के कॉरपोरेट मूल्यों- सेवा, पारदर्शिता, विनम्रता और  स्थिरता के महत्‍व पर बल दिया। श्री रंजन ने अच्छी ग्राहक सेवा प्रदान करने के लिए बैंक के अध्यक्ष रजनीश कुमार द्वारा दिए गए मार्गदर्शक सिद्धांतों को भी दोहराया और एसबीआई के गौरव की पूरी ईमानदारी से रक्षा करने और वित्तीय सेवाओं में अग्रणी के रूप में एसबीआई की उत्‍तम स्थिति को बनाए रखने के लिए व्यक्तिगत जिम्मेदारी लेने की प्रतिज्ञा के साथ इसके अनुपालन पर जोर दिया ।