ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
अल्जाइमर मतलब भुलक्कड़पन की बीमारी!-डॉ रूप कुमार बनर्जी
September 21, 2020 • सजग ब्यूरो • स्वास्थ्य

21 सितम्बर अल्जाइमर दिवस पर

विश्व अल्जाइमर दिवस हर साल 21 सितंबर को अल्जाइमर बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। अल्जाइमर रोग में मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं (न्यूरॉन्स) के बीच कनेक्शन का नुकसान होता है। प्रगतिशील मस्तिष्क विकार जो धीरे-धीरे स्मृति और सोच कौशल आदि को नष्ट कर देता है। वृद्ध वयस्कों में यह मनोभ्रंश का सबसे आम कारण है। यह दिन अल्जाइमर रोग के कारण और गंभीरता के बारे में लोगों को जागरूक करता है और कुछ देशों में इसे पूरे महीने मनाया जाता है। कुछ शोधकर्ताओं के अनुसार यह विकार हृदय रोग और कैंसर के ठीक पीछे तीसरे स्थान पर हो सकता है, जो वृद्ध लोगों की मृत्यु का एक प्रबल कारण है। 65 वर्ष की आयु के बाद इस बीमारी के अधिकांश लोगों का निदान किया जाता है। यह कहा जाता है कि अल्जाइमर रोग 60 प्रतिशत से 80 प्रतिशत पागलपन के मामलों में होता है।इसलिए, हम कह सकते हैं कि अल्जाइमर एक  प्रगतिशील बीमारी है जो धीरे-धीरे स्मृति और स्मृति से संबंधित अन्य कार्यों को नष्ट कर देती है। यह तब होता है जब मस्तिष्क में बीटा अमाइलॉइड के रूप में  होता है। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति ठीक से सोच भी नहीं पाता है और सबसे सरल कार्यों को करने की क्षमता नष्ट हो जाती है। समय के साथ, अल्जाइमर के लक्षण बिगड़ जाते हैं; किसी व्यक्ति के लिए हाल की घटनाओं को याद करना, तर्क करना और यहां तक ​​कि अपने परिचितों को पहचानना मुश्किल हो जाता है। यह तो मनोभ्रंश का सामान्य कारण है जो मस्तिष्क के विकारों का एक समूह है जो बौद्धिक और सामाजिक कौशल के नुकसान का कारण बनता है। अल्जाइमर रोग का नाम डॉ एलोइस अल्जाइमर के नाम पर रखा गया है । उन्होंने एक असामान्य मानसिक बीमारी से मर चुकी महिला के मस्तिष्क के ऊतकों में कुछ बदलाव देखे थे। यह अन्य बीमारियों के साथ भी होता है। अल्जाइमर रोग विकसित करने वाले लोगों को हृदय रोग भी हो सकता है।अल्जाइमर रोग वास्तव में सिर्फ स्मृति हानि ही नहीं है बल्कि कम हो रही स्मृति रोग का एक प्रमुख लक्षण है। यह मस्तिष्क के भीतर टंगल्स या सजीले टुकड़े के रूप में जाना जाने वाले प्रोटीन के निर्माण के कारण भी होता है और इसे तीसरे प्रकार के मधुमेह के रूप में भी जाना जाता है। इसके कारण अल्जाइमर रोग मस्तिष्क की कोशिकाओं का क्षय हो जाता है और विभिन्न प्रकार के संज्ञानात्मक कार्य जैसे स्मृति हानि, भाषा की समस्याएं और अप्रत्याशित व्यवहार को प्रभावित करते हैं।अल्जाइमर रोग के लिए सबसे बड़ा जोखिम कारक बढ़ती उम्र है। यह सामान्य उम्र बढ़ने का एक हिस्सा नहीं है, लेकिन 65 वर्ष तक पहुंचने के बाद आपका जोखिम बहुत बढ़ जाता है। कभी-कभी 30 वर्ष की आयु में लक्षण हो सकते हैं या इसलिए कि लोगों में दुर्लभ आनुवंशिक परिवर्तन अर्थात जीन हमारे नियंत्रण से परे हैं और विरासत में मिला है। अल्जाइमर एक अत्यंत ही जटिल बीमारी है क्योंकि मस्तिष्क की कोशिकाओं की मृत्यु को उलटा नहीं किया जा सकता है। हृदय रोग के जोखिम को कम करके हम इस बीमारी के जोखिम को कम कर सकते हैं। महत्वपूर्ण कारक जिन्हें नियंत्रित किया जाना है वे उच्च रक्तचाप, उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल, अतिरिक्त वजन और मधुमेह हैं।अल्जाइमर रोग के सामान्य चरण हल्के या प्रारंभिक चरण, मध्यम या मध्यम चरण और गंभीर या देर से चरण होते हैं। जैसा कि, अल्जाइमर अलग-अलग तरीकों से लोगों को अलग-अलग लक्षणों से प्रभावित करता है।अल्जाइमर एक प्रगतिशील बीमारी है और इसलिए यह समय के साथ बिगड़ जाती है। अपने शुरुआती चरणों में, स्मृति कम होती है, लेकिन देर से मंच के साथ एक व्यक्ति बातचीत करने और अपने पर्यावरण पर प्रतिक्रिया करने की क्षमता खो सकता है।
      पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अल्जाइमर रोग होने का खतरा अधिक होता है । यह रोग महिलाओं में पुरुषों की तुलना में अधिक जल्दी हो जाता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ब्रेन सिकुड़न अधिक गंभीर होती है ! इसलिए, हम कह सकते हैं कि अल्जाइमर रोग एक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है जिसमें मस्तिष्क की कोशिकाएं मर गईं, जिससे याददाश्त का नुकसान होता है, बोलने या लिखने में शब्दों की समस्या, खराब निर्णय, मूड और व्यक्तित्व में बदलाव, समय या स्थान के साथ भ्रम आदि। पहले चरण में ये लक्षण हल्के होते हैं लेकिन ये समय के साथ और गंभीर हो जाते हैं। होमियोपथी में अल्जाइमर का उचित चिकित्सा है बशर्ते समय रहते इसकी चिकित्सा कराई जाय ।