ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
6 लाख से अधिक ऑटोमेटिक कारों की बिक्री के साथ मारूति सुजुकी ने एएमटी, एटी और सीवीटी टेक्नोलॉजी पर लगाया बड़ा दांव
December 17, 2019 • सजग ब्यूरो
  • ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन के तीन विकल्प- एजीएस, एटी और सीवीटी
  • विभिन्न सेगमेन्ट्स में 2 पैडल टेक्नोलॉजी के साथ 12 मॉडल्स की व्यापक रेंज
  • लोकप्रिय विकल्पों में शामिल हैं: celerio, Wagon R, Swift, Baleno और Dezire

मारूति सुजुकी इण्डिया लिमिटेड ने 6 लाख से अधिक ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन पैसेंजर व्हीकल्स बेचकर एक नई उपलब्धि हासिल कर ली है। कंपनी द्वारा बेचे गए इन 6 लाख ऑटोमेटिक में से 5 लाख से अधिक वाहन प्रचलित ऑटो गियर शिफ्ट टेक्नोलॉजी से युक्त हैं। 2014 में Celerio में लोकप्रिय एजीएस ट्रांसमिशन टेक्नोलॉजी को पेश किए जाने के बाद ऑटोमेटिक वाहनों की बिक्री पिछले 5 सालों में तेजी से बढ़ी है। साल 2018-19 में कंपनी ने 2 लाख से अधिक ऑटोमेटिक वाहन बेचे हैं।

कंपनी 12 मॉडलों में ऑटोमेटिव विकल्प पेश करती है तथा तीन विभिन्न ऑटोमेटिव ट्रांसमिशन- ऑटो गियर शिफ्ट (एजीएस), ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन (एटी) और कन्टीन्यूअस वेरिएबल ट्रांसमिशन (सीवीटी) के विकल्प उपलब्ध कराती हैएजीएस का विकल्प Alto K-10, S-PRERSSO, Wagon R, Celerio, Ignis, Swift, Dezire और Vitara Breeza में उपलब्ध हैएटी ट्रांसमिशन का विकल्प अर्टिगा, सियाज़ और एक्सएल6 में उपलब्ध है, वहीं बलेनो सीवीटी टेक्नोलॉजी से सज्जित है।

इस अवसर पर श्री केनिची आयुकावा, मैनेजिंग डायरेक्टर एवं सीईओ, मारूति सुजुकी इण्डिया लिमिटेड ने कहा, "मारूति सुजुकी भारतीय बाजार में सर्वश्रेष्ठ ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी लाने के लिए प्रतिबद्ध है। यह उपलब्धि ऐसी नई तकनीकों के लिए ग्राहकों की बढ़ती स्वीकार्यता की पुष्टि करती है, जो ड्राइविंग को आसान बनाने वाली हैं। कई ऑटोमेटिक विकल्पों के साथ हम विभिन्न सेगमेन्ट्स के ग्राहकों को अपने उत्कृष्ट उत्पाद प्रदान करने में सक्षम हैं।"

उन्होंने कहा, "हमारी ऑटोमेटिक टेक्नोलॉजी, खासतौर पर शहरों के ट्रैफिक में ड्राइविंग को आसान बनाती है, यह तकनीक किफायती दरों पर उत्कृष्ट ईंधन दक्षता प्रदान करती है।" मारूति सुजुकी के ऑटोमेटिक वाहन देश भर में बेहद लोकप्रिय हैं, खासतौर पर बैंगलोर, दिल्ली, हैदराबद, मुंबई, पुणे और चेन्नई जैसे शहरों में इनकी लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है