ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
हम हर सफाई कर्मचारी को मुफ्त सेफ्टी किट उपलब्ध करवाएंगे : अरविंद केजरीवाल
July 15, 2019 • Shiv Sachdeva

मुझे पूरा भरोसा है कि भविष्य में सीवर की वजह से किसी सफाई कर्मचारी की मौत की खबर सुनने को नहीं मिलेगी : अरविंद केजरीवाल

दिल्ली सरकार सीवर की सफाई में लगे सभी कर्मचारियों को सेफ्टी किट मुफ्त में दे रही है। प्राइवेट ठेकेदार की ओर से कोई सुरक्षा के इंतजाम ना भी हो, तो सभी सफाई कर्मचारियों के पास सभी पुख्ता इंतजाम होना चाहिए ताकि किसी भी प्रकार के हादसे को टाला जा सके।

दिल्ली जल बोर्ड की तरफ से सीवर सुरक्षा जागरूकता पर तालकटोरा स्टेडियम में 15 जुलाई, 2019, सोमवार को आयोजित एक कार्यशाला के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री व दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष, अरविंद केजरीवाल ने ये बातें कहीं। इस कार्यक्रम में दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष दिनेश मोहनिया, दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव, दिल्ली जल बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी निखिल कुमार सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने सफाई कर्मचारियों को एक शपथ भी दिलवाई। सभी ने शपथ ली कि कोई भी सफाई कर्मचारी बिना पुख्ता सुरक्षा इंतजाम के सीवर में नहीं उतरेगा।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पूरी दुनिया में देखा जाता है कि जब भी किसी शहर का विकास होता है तो प्रशासन उस विकास में गरीब जनता को भूल जाता है। हमारी कोशिश है कि हमारी दिल्ली का विकास सबको साथ लेकर हो। दिल्ली में होने वाले विकास का लाभ अमीर और गरीब सभी को हो। किसी भी पक्ष का शोषण करके विकास न हो। आज जब सीवर की सफाई करते हुए किसी कर्मचारी की मौत हो जाती है तो बड़ा दुख होता है। इस व्यवस्था को हमें किसी भी हालत में खत्म करना है। हम सब लोग मिलकर यह कर सकते हैं।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब सीवर में किसी व्यक्ति की मौत होती है तो सभी को बहुत दुख होता है। दिल्ली सरकार और दिल्ली जल बोर्ड की यह कोशिश है कि आप सबकी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएं। इस ट्रेनिंग प्रोग्राम का मकसद यही है कि किसी भी कर्मचारी की सीवर में मौत ना हो। कर्मचारी चाहे दिल्ली जल बोर्ड का हो या प्राइवेट ठेकेदार का, जब भी वह सीवर में सफाई के लिए उतरे तो उसके पास सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होने चाहिए।

उन्होंने ये भी कहा कि यह केवल सरकार की ही नहीं बल्कि आप सबकी भी जिम्मेदारी है कि आप को पूरी सुरक्षा के साथ सीवर में सफाई के लिए उतरें। कई बार देखा जाता है मात्र दो मिनट का काम समझ कर, कई बार कर्मचारी बिना सुरक्षा के सीवर में उतर जाते हैं। आगे से आप सब लोगों को भी यह ध्यान रखना होगा कि बिना सेफ्टी उपकरणों के सीवर में सफाई के लिए नहीं उतरेंगे। किसी व्यक्ति की जान हमारे लिए बहुत कीमती है। आपकी जान आपके परिवार के लिए बहुत कीमती है। सीवर में सफाई के दौरान अपनी जान गंवाने वाले कर्मचारियों के परिवारों को,उनके बच्चों को मैंने रोते बिलखते देखा है। आप सब लोग कभी भी ऐसी लापरवाही मत करना।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश के अलग-अलग क्षेत्रों से दिल्ली में लोग काम की तलाश में आते हैं और यहीं बस जाते हैं। दिल्ली की आबादी दिन-ब-दिन तेजी से बढ़ती जा रही है। जिस  रफ्तार से दिल्ली की आबादी बढ़ रही है उसी रफ्तार से लोगों के लिए बिजली, पानी, सड़क नालियां, सीवर आदि की सुविधाओं का भी इंतजाम किया जा रहा है। आज से साढ़े चार साल पहले जब हमने दिल्ली की जिम्मेदारी संभाली थी, उस समय दिल्ली की 58% कालोनियों में पाइप लाइन के द्वारा पीने के पानी की सप्लाई होती थी। साढ़े चार साल में हमने उसको बढ़ा कर आज 93%कॉलोनियों में पाइप लाइन के द्वारा पानी की सप्लाई की व्यवस्था कर दी है। पिछले 70 सालों में मात्र 58% कालोनियों तक ही पीने के पानी की पाइप लाइन पहुंची थी और मात्र साढ़े चार साल में हमने 35% और कालोनियों में पानी की पाइप लाइन पहुंचाकर उसको 93% तक पहुंचा दिया। दिल्ली की उन कालोनियां को छोड़कर, जहां वन विभाग का इलाका होने की वजह से या किसी अन्य कानूनी पेंच होने की वजह से दिक्कत है,बाकी पूरी दिल्ली में आने वाले एक डेढ़ साल में घर-घर तक पाइपलाइन के जरिए पीने का पानी पहुंचाने की व्यवस्था कर दी जाएगी। हमारी सबसे पहली प्राथमिकता यह है कि दिल्ली के हर घर को टोंटी से 24 घंटे पीने का साफ पानी मिले। हम इसके लिए काम कर रहे हैं।

अरविंद केजरीवाल ने ये भी कहा कि साढ़े चार साल पहले जब हमने दिल्ली की जिम्मेदारी संभाली थी तो दिल्ली के मात्र 50% हिस्से में ही सीवर की पाइप लाइन डली हुई थी। साढ़े चार  साल में हमने दिल्ली के 80% हिस्से में सीवर की पाइप लाइन बिछाने का काम किया और घर- घर को सीवर की पाइप लाइन के साथ जोड़ने का काम किया। 70 सालों में  केवल 50% दिल्ली में सीवर की लाइन बिछाने की व्यवस्था हुई  और लगभग30% बढ़ोतरी मात्र साढ़े चार साल के भीतर की गई है। हमारी कोशिश है कि आने वाले एक-दो साल में दिल्ली के बाकी हिस्सों के हर घर को सीवर की लाइन से जोड़ने का काम पूरा कर लिया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार गरीबों के बारे में सोचती है। आज पूरे देश में एक मात्र दिल्ली की सरकार ने न्यूनतम मजदूरी 14000 रुपये महीने कर दी है। देश के किसी भी राज्य की सरकार ने इतनी न्यूनतम मजदूरी नहीं की। जब हमने न्यूनतम मजदूरी 14000 महीना करने का फैसला लिया तो बहुत सारे उद्योगपतियों ने हमारा विरोध भी किया। परंतु हमने उनको समझाया कि गरीब आदमी की आय बढ़ने से वह बाजार में अपने और अपने परिवार के लिए सामान खरीदेगा, जिससे व्यापार और बढ़ेगा। व्यापारियों को भी लाभ होगा। गरीबों को भी लाभ होगा और देश की अर्थव्यवस्था ऊपर उठेगी।

इस मौके पर दिल्ली जल बोर्ड के वाइस चेयरमैन दिनेश मोहनिया ने कहा कि दिल्ली जैसे बड़े शहर को आप लोग साफ-सुथरा रखते हैं इसके लिए सभी सफाई कर्मचारियों को मैं आभार व्यक्त करता हूं। सरकार की तरफ से हम ये सुनिश्चित करेंगे कि आपको हर तरह की सुविधा मिले लेकिन आप सबकी भी जिम्मेदारी है कि सुरक्षा के मामलों में आपकी तरफ से भी कोई लापरवाही ना हो। आपकी हर जरूरत को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री जी हमेशा एक परिवार की तरह आपके साथ हैं।

वहीं, दिल्ली जल बोर्ड के सीईओ निखिल कुमार ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि आज की ये कार्यशाला सभी सफाई कर्मचारियों के साथ-साथ हम सब लोगों के लिए भी बहुत उपयोगी होगी। सीवर की सफाई से संबंधित कामों को बेहतर और सुरक्षित तरीके से करने के हमारे प्रयासों की दिशा में आज की यह कार्यशाला एक मील का पत्थर साबित होगी। इस मौके पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली जल बोर्ड के 17 कर्मियों को शानदार सेवा कार्य के लिए सम्मानित भी किया।