ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
हम चाहते हैं कि हर जोन में कम से कम एक प्रतिभा विद्यालय हो : श्री मनीष सिसोदिया
September 12, 2018 • Shiv Sachdeva

दिल्ली सरकार ने उत्तर-पूर्वी जिले को एक राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय का तोहफा दिया है। दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को गौतमपुरी में एक राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय का उद्घाटन किया। बच्चों, पैरेंट्स, टीचर्स,ऑफिसर्स और क्षेत्र की जनता को शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आने के बाद दिल्ली में ये पांचवां प्रतिभा विद्यालय खुला है। साल 2005 से 2015 के बीच कोई भी प्रतिभा विद्यालय नहीं खुला। अब तक दिल्ली में कुल 22 प्रतिभा विद्यालय खुल चुके हैं। कुल 29 जोन हैं और हम चाहते हैं कि हर जोन में कम से कम एक प्रतिभा विद्यालय हो।  

श्री मनीष सिसोदिया ने ये भी कहा, “सरकार की योजना ये भी है कि हर जोन में कुछ विशेष स्ट्रीम वाले प्रतिभा विद्यालय खोले जाएं। मसलन, खेलों में प्रतिभा रखने वाले बच्चों को खेल प्रतिभा विद्यालय में अपने आप को निखारने का मौका मिले। इसी तरह आर्ट, कल्चर, म्यूजिक, थियेटर, एक्टिंग में रुचि रखने वाले प्रतिभाशाली स्टूडेंट्स को इस तरह के स्ट्रीम वाले प्रतिभा विद्यालयों में मौका दिया जाए। अगर कोई बच्चा साइंस में बहुत प्रतिभाशाली है और इस फील्ड में कुछ अलग करना चाहता है तो उसके लिए साइंस स्ट्रीम वाले प्रतिभा विद्यालय हों।“

शिक्षा मंत्री ने शिक्षकों से कहा कि ये हमारे क्षेत्र की प्रतिभाएं हैं जो अब आपके हवाले हैं। इनमें से अच्छे डॉक्टर, इंजीनियर, पत्रकार,वैज्ञानिक इत्यादि निकालना आप सबकी जिम्मेदारी है।

उन्होंने कहा, “दिल्ली की शिक्षा क्रांति की चर्चा पूरी दुनिया में है। मैं एजुकेशन की एक कांफ्रेंस में अभी रूस गया था। वहां मैंने 70 देशों के प्रतिनिधियों के बीच जब बताया कि हमारी दिल्ली में एजुकेशन में क्या-क्या हो रहा है तो खूब तालियां बजीं। खूब सराहना मिली। लेकिन वो तालियां, वो सराहना मेरे लिए नहीं बल्कि बच्चों, टीचर्स और एजुकेशन डिपार्टमेंट के अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए थीं।“ शिक्षा मंत्री ने ये भी कहा कि हम चाहते हैं कि पैरेंट्स में ये भरोसा आ जाए कि सरकार ने अच्छे स्कूल खोल रखे हैं हमें बहुत नामी-गिरामी प्राइवेट स्कूलों की जरूरत नहीं है। इस अवसर पर सीलमपुर के विधायक मोहम्मद इशराक,  घोंडा के विधायक श्रीदत्त शर्मा और साहित्य कला परिषद के सदस्य दिलीप पांडे भी मौजूद रहे।