ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
धनबल और बाहुबल रहित कम खर्चीला चुनाव प्रणाली मिजोरम में सम्भव है तो देश के अन्य राज्यों में क्यों नहीं?
December 4, 2018 • Sajag Bureau

हाल में हुए पाँच राज्यों के चुनाव में मिजो पीपुल्स फोरम (एमपीएफ) ने मिजोरम के चुनाव को आदर्श तरीके से सम्पन्न कराने में अति प्रशंसनीय काम किया है। चुनाव आयोग को भी इस बात की जानकारी है कि मिजो पीपुल्स फोरम द्वारा बनाये गए नियमों के अनुसार चुनाव में सभी राजनैतिक दल और उम्मीदवारों ने उनका पालन करते हुए चुनाव को बहुत ही सुलभ और सस्ता रखा।

सभी दल चुनाव में फिजुल खर्ची, आडम्बर, आपस में अभद्र व्यवहार, टकराव और हिंसा से बचे। भाजपा सहित और सभी राजनैतिक दलों ने मिजो पीपुल्स फोरम (एमपीएफ) द्वारा प्रस्तुत चुनाव शर्तावली पर हस्ताक्षर किए। एमपीएफ की शर्तावली के अनुसार कोई भी उम्मीदवार चुनाव में 30 से अधिक झंडे, पोस्टर और बैनर आदि नहीं लगा सकता है। न लाउडस्पीकर आदि का उपयोग कर सकता है। चुनावी सभाएं भी आयोजित नहीं की जा सकती है। मतदाता के घर जाकर उम्मीदवारों को चुनाव प्रचार करना होगा। इस दौरान उस दल के बड़े नेता को साथ मौजूद रहना होगा। पार्टी का आम कार्यकर्ता घर-घर जाकर चुनाव प्रचार नहीं कर सकता है। वहीं, इस दौरान एमपीएफ का एक प्रतिनिधि भी साथ होना आवश्यक है।

वोटों की खरीद-बिक्री ना हो, ऐसी व्यवस्था की गई, कोई भी राजनैतिक दल या प्रत्याशी चन्दा नहीं ले सकता है, नागरिक चुनाव परीक्षक बने और सुरक्षा बलों की मतदाता मित्र की तरह मदद की, मतदान केन्द्रों पर राजनैतिक दलों के पोलिंग एजेन्ट भी नहीं रहे, पूरा कार्य एमपीएफ के मतदाता मित्रों ने किया। कोई हिंसा नहीं हुई। चुनाव शान्तिपूर्ण हुए।

भारतीय मतदाता संगठन मतदाता मित्रों द्वारा इसी तरह की सादगी के साथ मामूली खर्च में चुनाव करवाने का आदर्श देश भर में करने के लिए संकल्पित है। ऐसी चुनाव व्यवस्था में ही निस्वार्थी, निष्कामी, जनता की सेवा करने के लिए समर्पित जीवन, विकास को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित लोग ही अपना स्थान सत्ता में प्राप्त कर सकते हैं और अपराधी तत्वों, स्वार्थी तत्वों को सत्ता से बाहर रख सकते है।

भारतीय मतदाता संगठन ने चुनाव आयोग से समस्त देश और समस्त राज्यों में मिजोरम चुनाव मॉडल लागू करने का निवेदन किया है।

भारतीय मतदाता संगठन ने अपने जनवरी में होने वाले आगामी सालाना कार्यक्रम में मिजो पिपुल्स फोरम (एमपीएफ) को ”लोकतन्त्र महाप्रहरी” के रुप में सम्मानित करने का विचार कर रही है।