ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा
दिल्ली मेट्रो के ग्रे लाइन को केजरीवाल, केंद्रीय मंत्री हरदीप पूरी ने दिखाई हरी  झंडी
October 4, 2019 • सजग ब्यूरो

दिल्ली देहात में इतना विकास हमारे सरकार से पहले कभी नहीं हुआ, नजफगढ़ के लोगों का वर्षों का इंतजार खत्म: केजरीवाल

21 साल से मेट्रो का सपना संजोये बाहरी दिल्ली और खासकर नजफगढ़ और मटिआला विधानसभा क्षेत्र के लाखों लोगों की आंखों में शुक्रवार को चमक आ गई, जब उड़न परी गजफगढ़ मेट्रो स्टेशन पहुंची। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान नजफगढ़ के लोगों से उनका यह सपना पूरा करने का वादा किया था। शुक्रवार को मेट्रो को हरी झंडी दिखाने के साथ ही उन्होंने अपना वह वादा पूरा कर दिया। जिसकी खुशी नदफगढ़ और मटिआला के विधायकों की आंखों में दिखी। 

इस उद्घाटन में केंद्रीय मंत्री  हरदीप पूरी, दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत, मटियाला के विधायक गुलाब सिंह, पश्चिम दिल्ली के सांसद प्रवेश वर्मा भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर नजफगढ़ के लोगों को बधाई दी। उन्होंने लिखा, नजफगढ़ के लोगों का वर्षों का इंतज़ार ख़त्म हुआ। अब आप दिल्ली के किसी भी कोने में अधिकतम एक घंटे में पहुँच सकते हैं। दिल्ली देहात के लोगों को मलाल था कि पिछली सरकारों ने उनके लिए कुछ नहीं किया। पर अब वे बहुत ख़ुश हैं-मेरी सरकार ने दिल्ली देहात में जितना विकास किया उतना कभी नहीं हुआ।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ग्रे लाइन मेट्रो के उद्घाटन के दौर बोले कि द्वारका से नजफगढ़ के लिए मेट्रो लाइन के लिए 21 साल से संघर्ष हो रहा था। अब इस लाइन के प्रारंभ होने से लोगों को कितनी खुशी मिली है, उसे नजफगढ़ के विधायक और परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के आंखों में देखकर समझा जा सकता है। जब इस क्षेत्र के विधायक इतने खुश हैं तो आम जनता की खुशी को आसानी से समझा जा सकता है। इस लाईन के शुरू होने के साथ ही डीएमआरसी का नेटवर्क 377 किलोमीटर हो गया है। दुनिया में दो - तीन ही शहर हैं जहां मेट्रो का इतना बड़ा नेटवर्क है। इस काम को करने में डीएमआरसी बड़ी भूमिका अदा की है। 

मुख्यमंत्री ने कहा, दिल्ली में प्रदूषण कम करने में भी मेट्रो का बड़ा योगदान है। दिल्ली सरकार इसके लिए तमाम कदम उठा रही है, मेट्रो का विस्तार उनमें एक है। दिल्ली में 25 प्रतिशत प्रदूषण कम भी हुआ है। जैसे जैसे दिल्ली में मेट्रो का दायरा बढ़ेगा, प्रदूषण का स्तर कम होता जाएगा। बाहरी दिल्ली के लोगों के मन में एक मलाल होती थी कि वह विकास से दूर है। लेकिन अब ऐसा नहीं है। दिल्ली के आखरी छोर नजफगढ़ में रहने वाले एक घंटे में दिल्ली एनसीआर के किसी कोने में अब चले जाएंगे। दिल्ली में मौजूद बिजली का पांच प्रतिशत मेट्रो को चाहिए। नजफगढ़ मेट्रो स्टेशन पर इस्तेमाल के एक तिहाई बिजली का इंतजाम सोलर से किया गया है। यह अच्छी पहल है। हमें सोलर एनर्जी की तरफ और बढ़ना होगा। 

70 गांव और 400 कालोनियों के लोगों को फायदा: कैलाश गहलोत 

परिवहन मंत्री और नजफगढ़ के विधायक कैलाश गहलोत ने बताया कि इस क्षेत्र की जनता वर्षों से मेट्रो की मांग कर रही थी। विधानसभा चुनाव के दौरान अरविंद केजरीवाल जी ने वादा किया था कि मुख्यमंत्री बनने पर नजफगढ़ को मेट्रो की सौगात देंगे। जिसे आज उन्होंने पूरा कर दिया। मैं भले ही परिवहन मंत्री हूं लेकिन उससे पहले नजफगढ़ का विधायक हूं। इस कारण मुझे जनता का दर्द पता है। आज लोगों की आंखों में खुशी के आंसू हैं। इस मेट्रो लाइन से बाहरी दिल्ली के करीब 70 गांव और 400 कालोनियां जुड़ गई हैं। लाखों लोग अब मेट्रो में सफर कर पाएंगे। 

यह है ग्रे मेट्रो लाइन 

द्वारका और नजफगढ़ के बीच मेट्रो सेवा शुरू हो गई। तीन स्टेशनों वाली इस मेट्रो लाइन की लंबाई 4‌‌.29 किमी. है। इनमें द्वारका,

 नंगली और नजफगढ़ स्टेशन हैं। पहले बाहरी दिल्ली के लोगों को मेट्रो के लिए द्वारका मोड़ जाना पड़ता था। उनका काफी समय बर्बाद होता था। अब नजफगढ़ से 50 मिनट में नोएडा और वैशाली पहुंच सकेंगें। शुरुआत में इस रूट पर 3 ट्रेन चलेंगी और बाद में चार चलेंगी। मेट्रो की फ्रिक्वेंसी यहां 7 मिनट 30 सेकंड होगी। इस सेक्शन के साथ दिल्ली मेट्रो का नेटवर्क 377 किमी. हो गया हैं। इस लाइन के जुड़ने के बाद अब मेट्रो में 274 स्टेशन हो गए हैं। ट्रेनों की संख्या भी बढ़कर 336 हो गई है। इस लाइन का अगला स्टेशन ढांसा बस स्टैंड होगा, जिसके निर्माण का काम चल रहा है। यह दिसंबर 2020 तक पूरा होगा। नजफगढ़ स्टेशन का आकार दूसरे स्टेशनों से अलग है। यह सबसे लंबा 288 मीटर अंडग्राउंड स्टेशन है। द्वारका मेट्रो स्टेशन पर पार्किंग भी बनाई गई है। यहां गाड़ियों के लिए लेन बांटी गई है। ग्रे लाइन मेट्रो स्टेशन का द्वारका स्टेशन इंटरचेंज हब होगा। यहां से लोग ब्लू लाइन पर द्वारका सेक्टर 21, नोएडा, वैशाली के लिए इंटरचेंज कर पाएंगे। पहले द्वारका मोड़ से नजफगढ़ जाने में घंटों लग जाते थे। अब द्वारका स्टेशन से सिर्फ 6 मिनट 20 सेकंड में लोग नजफगढ़ पहुंच पाएंगे। नजफगढ़ रूट के तीनों स्टेशनों पर सोलर पावर प्लांट लगाए गए हैं। इसी से मेट्रो स्टेशन के लिए भी बिजली पैदा होगी। द्वारका मेट्रो स्टेशन में 175 किलोवॉट, नंगली स्टेशन में 249 किलोवॉट और नजफगढ़ में 249 किलोवॉट बिजली पैदा हो रही है।