ALL व्यापार राजनीति स्वास्थ्य साहित्य मनोरंजन कृषि दिल्ली शिक्षा राज्य धर्म - संस्कृति
एलआईसी का 59वां अखिल भारतीय वरिष्ठ मंडल प्रबंधक सम्मेलन 
May 24, 2019 • Shiv Sachdeva

भारतीय जीवन बीमा निगम का 59वां अखिल भारतीय वरिष्ठ मंडल प्रबंधक सम्मेलन 20 से 22 मई, 2019 तक मुम्बई में आयोजित किया गया जिसमें वार्षिक कॉर्पोरेट रणनीति पर चर्चा की गई।

भारतीय जीवन बीमा निगम के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के सम्बोधन के साथ सम्मेलन का उद्घाटन हुआ। सम्मेलन में पूरे देश के सभी 113 मंडलों के मंडल प्रमुखों ने भाग लिया। आठ विभिन्न जोन के जोनल प्रमुखों के साथ ही कॉर्पोरेट कार्यालय से कार्यकारी निदेशक रैंक के सभी विभाग प्रमुखों ने वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए विपणन, ग्राहक सेवाएं, सूचना प्रौद्योगिकी, एचआर, अंतर्राष्ट्रीय परिचालन एवं नई पहलों सहित विभिन्न विषयों पर रणनीति को अंतिम रूप देने के लिए चर्चा में भाग लिया। 

एलआईसी ने वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए पॉलिसियों की संख्या में 74.71 प्रतिशत बाजार हिस्सा और 66.24 प्रतिशत प्रथम वर्ष प्रीमियम आय दर्ज की है तथा अब तक का सबसे अधिक प्रथम वर्ष प्रीमियम आय रु. 1,42,191.69 करोड़ हासिल की है। दावों के निपटान में कार्यप्रदर्शन निगम के लिए हमेशा गौरव का विषय रहा है।

सम्मेलन के दौरान वर्ष 2018-2019 के लिए शीर्ष व्यवसाय हासिल करने वाले मंडलों को सम्मानित किया गया पैनल चर्चा, वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए कॉर्पोरेट नीति पर विचार-विमर्श किया गया और सम्मेलन में इस विषय के निष्पादन की दिशा में कार्यकलापों की योजना बनाई है।

22 मई, 2019 को श्री राकेश शर्मा, एमड़ी एवं सीईओ, आईडीबीआई बैंक को सम्मेलन के अतिथि वक्ता के रूप में आमंत्रित किया गया । उन्होंने भारतीय जीवन बीमा निगम के साथ बैंक के सहयोग और एलआईसी कार्यालयों एवं आईडीबीआई बैंक आउट्लेंटों के बीच तालमेल के बारे में अपने विचार साझा किये। आईडीबीआई बैंक ने भारतीय जीवन बीमा निगम के साथ एक कॉर्पोरेट एजेंट के रूप में 27 फरवरी, 2019 को एक समझौता किया है और पहले माह अर्थात् मार्च 2019 में उन्होंने रु. 139.70 करोड़ के प्रीमियम के साथ 20,980 पॉलिसियों अधिप्राप्त की हैं। वर्तमान वित्तीय वर्ष अर्थात् 2019-2020 में अब तक 1929 पॉलिसियों का नया व्यवसाय एवं रु. 30.21 करोड़ का प्रीमियम हासिल किया है और भारतीय जीवन बीमा निगम के सभी बैंकएंश्योरेंस साझेदार के बीच नं. 1 रैंक प्राप्त की है।

आईडीबीआई व एलआईसी के एक साथ आने के बाद इसका सकारात्मक प्रभाव बैंक की भावी बैलेंस शीट पर परिलक्षित होगा।